अडाणी समूह ने गुजरात में इस्पात संयंत्र के लिए पॉस्को के साथ समझौता किया

नयी दिल्ली, उद्योगपति गौतम अडाणी की अगुवाई वाले अडाणी समूह ने इस्पात, नवीकरणीय ऊर्जा समेत अन्य क्षेत्रों में कारोबारी अवसर तलाशने के लिए दक्षिण कोरियाई कंपनी पॉस्को के साथ समझौता किया है।

दोनों कंपनियों ने इस लिहाज से समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर दस्तखत किए।

अडाणी समूह ने बृहस्पतिवार को एक बयान में कहा कि एमओयू के तहत पांच अरब डॉलर तक का निवेश किया जा सकता है।

समूह ने कहा कि उसने ‘‘गुजरात के मुंद्रा में हरित, पर्यावरण-अनुकूल एकीकृत इस्पात कारखाने की स्थापना और अन्य उद्यमों समेत व्यावसायिक सहयोग के अवसर तलाशने की सहमति जताई है। पांच अरब डॉलर तक का निवेश होने की संभावना है।’’

दोनों पक्ष प्रत्येक कंपनी की तकनीकी, वित्तीय और परिचालन संबंधी मजबूती से लाभ उठाने और सहयोग करने के अनेक विकल्पों का अध्ययन कर रहे हैं।

पॉस्को के सीईओ जियोंग-वू चोई ने कहा कि उनकी कंपनी की इस्पात विनिर्माण में अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी तथा ऊर्जा एवं अवसंरचना में अडाणी समूह की विशेषज्ञता के साथ दोनों कंपनियां इस्पात एवं पर्यावरण-अनुकूल कारोबार में परस्पर सहयोग के साथ काम कर सकेंगी।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे उम्मीद है कि यह सहयोग भारत और दक्षिण कोरिया के बीच एक अच्छा और टिकाऊ उद्यम सहयोग मॉडल बनेगा।’’

अडाणी समूह के अध्यक्ष गौतम अडाणी ने कहा, ‘‘यह साझेदारी भारत के विनिर्माण उद्योग के विकास में तथा भारत सरकार की महत्वाकांक्षी आत्मनिर्भर भारत योजना में योगदान देगी। यह हरित उद्यमों में भारत की स्थिति को मजबूत करने में भी मददगार होगी।’’

पॉस्को और अडाणी ने सरकार के स्तर पर सहयोग और समर्थन के लिए गुजरात सरकार के साथ भी एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Wikimedia commons

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: