असम में सीएए विरोधी प्रदर्शनों में मारे गए व्यक्तियों के परिजनों को अभी तक कोई मुआवजा नहीं: सरमा

गुवाहाटी, असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने सोमवार को कहा कि राज्य सरकार ने दिसंबर 2019 में संशोधित नागरिकता अधिनियम (सीएए) के खिलाफ हुए हिंसक विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस की गोलीबारी में मारे गए लोगों के परिजनों या घायल हुए व्यक्तियों को अभी तक कोई भी मुआवजा प्रदान नहीं किया है।

मुख्यमंत्री ने राज्य विधानसभा में कांग्रेस विधायक रेकीबुद्दीन अहमद के एक सवाल के जवाब में कहा कि सीएए विरोधी आंदोलन के दौरान गुवाहाटी में पुलिस की गोलीबारी में तीन लोगों की मौत हो गई थी और पांच अन्य घायल हो गए थे।

उन्होंने बताया कि मारे गए तीन लोगों में सैम स्टैफोर्ड (17), ईश्वर नायक (25) और अब्दुल हलीम (23) शामिल थे।

सरमा ने कहा, ‘‘राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, मृतक या घायल लोगों को कोई राहत या मुआवजा नहीं दिया गया है। जिला उपायुक्त से मुआवजे पर निश्चित प्रस्ताव मिलने पर हम इस पर विचार करेंगे।’’

उन्होंने कहा कि प्रदर्शनकारियों पर पुलिस गोलीबारी के संबंध में कुल मिलाकर चार मामले दर्ज किए गए हैं और जांच जारी है।

सीएए विरोधी आंदोलन के नेताओं ने दावा किया था कि असम में विरोध प्रदर्शन के दौरान कुल पांच लोग मारे गए थे।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Wikimedia commons

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: