उप्र में 2017 से पहले ‘‘गुंडों व माफियाओं’’ की मनमानी चलती थी, अब वे लोग जेल में हैं : मोदी

अलीगढ़ (उत्तर प्रदश), प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि 2017 से पहले उत्तर प्रदेश में शासन में ‘‘गुंडों और माफियाओं’’ की मनमानी चलती थी, लेकिन अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में चीजें बदल गई हैं तथा ऐसे तत्व सलाखों के पीछे हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि पहले गरीबों के लिए कल्याणकारी योजनाओं को लागू करने में व्यवधान डाले जाते थे, लेकिन अब ऐसी कोई बाधा नहीं है तथा ऐसी योजनाओं का लाभ जरूरतमंद लोगों तक पहुंच रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी यहां राजा महेन्द्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय की आधारशिला रखने के बाद एक समारोह को संबोधित कर रहे थे।

राज्य सरकार महान स्वतंत्रता सेनानी, शिक्षाविद् और समाज सुधारक राजा महेंद्र प्रताप सिंह की स्मृति और उनके सम्मान में इस विश्वविद्यालय की स्थापना कर रही है। यह विश्वविद्यालय अलीगढ़ की कोल तहसील के लोढ़ा तथा मूसेपुर करीम जरौली गांव में करीब 92 एकड़ भूमि पर बनाया जाएगा। इस विश्वविद्यालय से अलीगढ़ मंडल (डिविजन) के 395 महाविद्यालयों को संबद्ध किया जाएगा।

प्रधानमंत्री मोदी उत्तर प्रदेश रक्षा औद्योगिक गलियारे के अलीगढ़ ‘नोड’ पर एक प्रदर्शनी में भी पहुंचे।

उन्होंने कहा कि भारत को पहले रक्षा उपकरणों के आयातक के रूप में देखा जाता था, लेकिन आज देश को एक प्रमुख रक्षा निर्यातक माना जाता है। उन्होंने कहा, “आज न केवल भारत, बल्कि विश्व देख रहा है कि किस प्रकार आधुनिक ग्रेनेड, राइफल, लड़ाकू विमान, ड्रोन और युद्धपोत जैसे उपकरण देश में ही निर्मित हो रहे हैं।”

मोदी ने भाजपा के दिवंगत वरिष्ठ नेता कल्याण सिंह को भी याद किया और कहा कि अगर इस मौके पर वह यहां होते तो अपने गृह जिले में राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम पर विश्वविद्यालय की स्थापना की सराहना करते।

मशहूर जाट हस्ती के नाम पर विश्वविद्यालय स्थापित करने के योगी आदित्यनाथ सरकार के फैसले को अगले साल राज्य में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले समुदाय को आकर्षित करने की सत्तारूढ़ भाजपा की कोशिश के तौर पर पर में देखा जा रहा है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जाट समुदाय के लोगों की खासी आबादी है और वे किसानों से जुड़े मुद्दे को लेकर भाजपा से नाराज़ दिख रहे हैं।

इस बीच, आदित्यनाथ और उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने प्रधानमंत्री मोदी को आगामी विश्वविद्यालय के बारे में विभिन्न जानकारी दी।

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल भी इस मौके पर मौजूद थीं।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Wikimedia commons

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: