एआई मिशन के तहत होंगे उत्कृष्टता केंद्र, प्राप्त होंगे उन्हें एप्लिकेशन आधारित अनुसंधान का अधिकार

नयी दिल्ली, प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के विजय राघवन ने बृहस्पतिवार को कहा कि राष्ट्रीय कृत्रिम बुद्धिमता (एआई) मिशन के अंतर्गत उत्कृष्टता केंद्र होंगे और उन्हें एप्लिकेशन आधारित अनुसंधान का अधिकार होगा। उन्होंने भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) द्वारा आयोजित वेबिनार में कहा कि मशीन शिक्षण एवं एआई बहुत महत्वूपर्ण हैं और बड़ा डाटा उसके मूल में है। हालांकि उन्होंने इस बात पर बल दिया कि वह डाटा सूचना नहीं है,सूचना डाटा के प्रसंस्करण से निकली चीज है और उसे ज्ञान में परिवर्तित किया जाता है।

विजय राघवन ने कहा, ‘‘ लेकिन समझ पर्याप्त नहीं है और इसमें तार्किक कार्रवाई सामने आनी चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि एआई पहलू की विभिन्न क्षेत्रों में असाधारणा संभावनाएं हैं लेकिन दुनियाभर में वाणिज्यिक दृष्टिकोण से उसे अपनाया गया है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य, कृषि, शिक्षा, स्मार्ट शहर, बुनियादी ढांचा, स्मार्ट गतिशीलता एवं परिवहन जैसे क्षेत्रों में एआई की विपुल संभावनाएं हैं।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Pixabay

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: