ऑस्टिन ने काबुल से विमानों के जरिये लोगों को निकाले जाने के अभियान का बचाव किया

वाशिंगटन, अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने अमेरिकी कांग्रेस में मंगलवार को काबुल से सेना द्वारा विमानों के जरिये लोगों को निकाले जाने के अभियान का बचाव किया। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान से भविष्य के खतरों से निपटना कठिन तो होगा लेकिन यह पूरी तरह से संभव है।

ऑस्टिन ने अफगानिस्तान में अमेरिकी युद्ध के 20 साल के अभियान पर किए गए फैसलों पर भी सवाल उठाया। इस मौके पर उनके साथ ज्‍वाइंट चीफ ऑफ स्टॉफ के अध्यक्ष जनरल मार्क मिले भी मौजूद थे।

उन्होंने कहा, अमेरिकी सरकार को एक सक्षम अफगान सरकार बनाने की अपनी क्षमता पर बहुत अधिक विश्वास हो सकता है। उन्होंने सीनेट की सशस्त्र सेवा समिति को बताया, ‘‘हमने एक राज्य बनाने में मदद की, लेकिन हम एक राष्ट्र नहीं बना सके।’’

उन्होंने कहा, ‘‘तथ्य यह है कि जिस अफगान सेना को हमने और हमारे सहयोगियों ने प्रशिक्षित किया था, उसने आसानी से हथियार डाल दिये। इसने हम सभी को आश्चर्यचकित कर दिया।’’

ऑस्टिन ने हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से लोगों को निकालने के 14 अगस्त से शुरू हुए अभियान में कमियों को स्वीकार किया। हालांकि उन्होंने कहा कि विमान सेवा के जरिये लोगों को निकालना एक ऐतिहासिक उपलब्धि थी जिसने तालिबान शासन के तहत 1,24,000 लोगों को निकाल लिया।

उन्होंने कहा, ‘‘हम सभी ने अफगानिस्तानी नागरिकों भयभीत होकर रनवे पर और हमारें विमानों के पीछे भागने की तस्वीरों को देखा है। हवाई अड्डे के बाहर असमंजस के मंजर हम सभी को याद हैं। लेकिन 48 घंटों के भीतर, हमारे सैनिकों ने व्यवस्था बहाल कर दी थी।’’

रिपब्लिकन ने विशेष रूप से राष्ट्रपति जो बाइडन के 30 अगस्त तक सभी सैनिकों को अफगानिस्तान से बाहर निकालने के फैसले पर अपने हमलों को तेज कर दिया है। वे काबुल में आत्मघाती बम विस्फोट के बारे में अधिक जानकारी की मांग कर रहे हैं, जिसमें वापसी के अंतिम दिनों में 13 अमेरिकी सैनिकों की मौत हो गई थी।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Getty Images

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: