कैरी ने अंतिम जलवायु समझौते पर अमेरिका की स्थिति को रेखांकित किया

ग्लासगो, अमेरिका के जलवायु सचिव जॉन कैरी ने कहा कि उनका देश संयुक्त राष्ट्र जलवायु के समझौता मसौदे के उस हिस्से का समर्थन कर रहा है जिसमें ‘अनअबेटिड’ (निरंतर) कोयले के इस्तेमाल को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने का आह्वान किया गया है।

कैरी ने शुक्रवार को स्कॉटलैंड के ग्लासगो में संयुक्त राष्ट्र जलवायु सम्मेलन के समापन के क्षणों में राष्ट्रीय प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों से बात की और इस बारे में अमेरिका का रुख रखा कि करीब 190 सरकारों के अंतिम समझौते में क्या होना चाहिए।

कैरी ने मसौदा समझौते में सर्वाधिक चर्चा में रहने वाले नये प्रावधानों में से एक का समर्थन किया। यह बयान सरकारों को कोयले से संचालित ऊर्जा संयंत्रों के प्रदूषण को रोकने के लिए प्रोत्साहित करेगा।

जलवायु कार्यकर्ता समूहों ने मसौदे में जीवाश्म ईंधन पर ध्यान केंद्रित किये जाने का स्वागत किया है। लेकिन चूंकि शब्दावली पर चर्चा जारी है, इसलिए यह अभी स्पष्ट नहीं है कि ‘अनअबेटिड’ (अटूट या निरंतर) से वार्ताकारों का क्या मतलब है।

उधर यूरोपीय संघ के जलवायु प्रमुख ने कहा कि समझौते को अंतिम रूप देना वार्ताकारों के लिए ‘व्यक्तिगत’ मुद्दा है क्योंकि यह उनके बच्चों और नाती-पोतों के जीवन को प्रभावित करेगा।

संयुक्त राष्ट्र जलवायु वार्ता की अध्यक्षता कर रहे ब्रिटिश अधिकारी आलोक शर्मा ने इन धारणाओं को खारिज कर दिया कि वह ग्लासगो वार्ता में समझौते को अंतिम रूप दिये जाने के प्रयास में वार्ताकारों पर दबाव बढ़ा रहे हैं। एपी वैभव अमित अमित 1211 2334 ग्लासगो

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Getty Images

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: