कैलिफोर्निया के गवर्नर को हटाने की कोशिश नाकाम, गैविन न्यूसम पद पर बरकरार

सैक्रामेंटो (अमेरिका), कैलिफोर्निया के गवर्नर गैविन न्यूसम ने कार्यकाल की समाप्ति से पहले उन्हें पद से हटाए जाने की कोशिश नाकाम कर दी।

इसी के साथ न्यूसम अमेरिका के इतिहास में मंगलवार को ऐसे दूसरे गवर्नर बन गए, जो कार्यकाल की समाप्ति से पहले पद से हटाने के लिए कराए गए चुनाव में विजयी रहे हैं। इससे पहले, विस्कॉनसिन के गवर्नर और रिपब्लिकन पार्टी के नेता स्कॉट वाल्कर ने 2012 में उन्हें समय से पूर्व पद से हटाए जाने की कोशिश नाकाम कर दी थी।

इस जीत के साथ ही न्यूसम डेमोक्रेटिक पार्टी की राष्ट्रीय राजनीति में अहम नेता बनकर सामने आए हैं और उन्हें अमेरिका में भविष्य में राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी का उम्मीदवार बनाए जाने की संभावना प्रबल हो गई है। न्यूसम ने इस मतदान को कोरोना वायरस वैश्विक महामारी और अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की विचारधारा के खिलाफ अपनी पार्टी के मूल्यों के लिए राष्ट्रीय लड़ाई के तौर पर पेश किया था। इस चुनाव में न्यूसम की जीत का अर्थ है कि देश में सबसे अधिक आबादी वाले इस राज्य में डेमोक्रेटिक पार्टी की सरकार रहेगी और यह आव्रजन, जलवायु परिवर्तन और असमानता जैसे मामलों पर पार्टी की प्रगतिशील नीतियों की प्रयोगशाला के तौर पर काम करेगा।

मतदान से पहले देश के राष्ट्रपति जो बाइडन ने लोगों से अपील की थी कि वे कोविड-19 के मद्देनजर कड़े प्रतिबंध लागू करने और टीकाकरण की आवश्यकता संबंधी डेमोक्रेटिक पार्टी के दृष्टिकोण का समर्थन करें और देश को दिखा दें कि ‘‘नेतृत्व मायने रखता है, विज्ञान मायने रखता है’’।

यह मतदान इस बात की भी परीक्षा था कि क्या डोनाल्ड ट्रम्प और उनकी दक्षिणपंथी राजनीति का विरोध डेमोक्रेट और निर्दलीय उम्मीदवारों के लिए अब भी एक प्रेरक शक्ति है। मतदान से पहले न्यूसम ने कहा था, ‘‘हमने डोनाल्ड ट्रंप को तो हरा दिया है, लेकिन हमने उनकी विचारधारा को नहीं हराया है। ट्रंप की विचारधारा इस देश में अब भी जीवित है।’’

इस मतदान के दौरान मतदाताओं से दो प्रश्न पूछे गए थे: क्या न्यूसम को पद की जिम्मेदारी से हटाया जाना चाहिए और यदि हां, तो उनकी जगह किसे यह जिम्मेदारी दी जानी चाहिए? लगभग 60 प्रतिशत मतपत्रों की गिनती के बाद न्यूसम को पद से हटाने के सवाल का ‘‘नहीं’’ में जवाब देने वाले मतदाताओं की संख्या ‘‘हां’’ में जवाब देने वालों से दोगुनी रही।

यदि न्यूसम इस जनमत संग्रह पर चुनाव हार जाते, तो उनकी जगह गवर्नर बनने के लिए सबसे मजबूत उम्मीदवार रिपब्लिकन टॉक रेडियो मेजबान लैरी एल्डर होते।

न्यूसम ने अपनी विजय को विज्ञान, महिलाओं के अधिकारों और अन्य उदारवादी मुद्दों की जीत करार दिया। उन्होंने कहा, ‘‘आज रात केवल ‘नहीं’ के पक्ष में ही मतदान नहीं किया गया, बल्कि मैं इस पर ध्यान दिलाना चाहता हूं कि एक राज्य के रूप में हमने किन चीजों को ‘हां’ कहा: हमने विज्ञान को ‘हां’ कहा, हमने टीकों के लिए ‘हां’ कहा और हमने इस वैश्विक महामारी को समाप्त करने के लिए ‘हां’ कहा।’’

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Wikimedia commons

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: