कोविड-19 : झारखंड में सभी शिक्षण-प्रशिक्षण संस्थान बंद, परीक्षाएं स्थगित

रांची, झारखंड में तेजी से बढ़ रहे कोविड-19 के मामलों के बीच राज्य सरकार ने रविवार को सभी शिक्षण-प्रशिक्षण संस्थानों को अगले आदेश तक बंद रखने का आदेश दिया और सभी तरह की परीक्षाएं तत्काल प्रभाव से स्थगित कर दी है।

सरकार ने इसके साथ शादी विवाह के कार्यक्रम में शामिल होने वालों की संख्या 200 से घटाकर 50 कर दी।

मुख्यमंत्री के प्रवक्ता ने बताया कि कांके रोड स्थित आधिकारिक आवास में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कोविड-19 के बढ़ते मामले को लेकर वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव, स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता एवं श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता के साथ अहम बैठक की और इसके बाद राज्य सरकार ने यह फैसला किया।

बैठक के बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य में कोविड-19 के बढ़ते मामलों को लेकर सरकार द्वारा शनिवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई गई थी।

उन्होंने कहा कि आज सरकार के सहयोगी दलों के साथ भी बैठक की गयी। राज्य में कोरोना की स्थिति को ध्यान में रखकर कई महत्वपूर्ण विचार तथा सुझाव हमारे विपक्ष के साथियों के तरफ से भी आए थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मौजूदा हालात को देखते हुए सरकार ने प्राथमिक स्तर पर कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं जिसके तहत राज्य के सभी स्कूल, कॉलेज, आईटीआई संस्थान, कोचिंग संस्थान, ट्रेनिंग संस्थान, आंगनबाड़ी केंद्रों को अगले आदेश तक के लिए बंद रखने का निर्णय लिया गया है।

उन्होंने कहा कि शादी-विवाह समारोह में शामिल होने हेतु पहले जो अधिकतम संख्या 200 लोगों की थी, अब उसे घटाकर अधिकतम 50 कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में स्कूल, कॉलेज तथा संस्थागत जितनी भी परीक्षाएं होनी थी, इन परीक्षाओं को अगले आदेश तक के लिए स्थगित कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि एक महीने के उपरांत फिर राज्य सरकार इसकी समीक्षा करेगी।

सोरेन ने कहा कि विशेष परिस्थिति में सरकार समय-समय पर संक्रमण को नियंत्रित करने के निमित्त आवश्यक निर्णय लेती रहेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार अपने सीमित संसाधनों के माध्यम से व्यवस्थाओं को सुदृढ़ करते हुए और मजबूती से लोगों को बेहतर स्वास्थ्य लाभ कैसे दे पाए, इसके लिए लगातार प्रयासरत है।

उन्होंने कहा कि पूरे राज्य में जिला स्तर पर अस्पतालों में ऑक्सीजन युक्त बेड बढ़ाने का प्रयास लगातार जारी है। राज्य में जो भी मेडिकल कॉलेज अथवा रिसर्च सेंटर हैं वहां बिस्तरों की संख्या बढ़ाने का निर्णय लिया गया है।

सोरेन ने राज्यवासियों से आग्रह किया कि कोविड-19 संक्रमण को हल्के में न लें और सभी नियमों का कड़ाई से पालन करें।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Wikimedia commons

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: