चीन का चांग’ई-6 चंद्रमा के दूसरी ओर से करीब दो किलोग्राम नमूने अनुसंधान के लिए धरती पर लाया

बीजिंग, चीन का ‘चांग ई-6’ मिशन इस सप्ताह धरती पर वापस लौट आया और आपने साथ चंद्रमा के सतह की दूसरी ओर से करीब दो किलोग्राम नमूने अनुसंधान के साथ लाया है जिसके अध्ययन से पृथ्वी के एकमात्र प्राकृतिक उपग्रह की उत्पत्ति को समझने में और मदद मिलेगी। चीन की अंतरिक्ष एजेंसी ने शुक्रवार को यह घोषणा की। चाइना नेशनल स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (सीएनएसए) के मुताबिक शुरुआती तौल के मुताबिक चांग ई-6 अपने साथ चंद्रमा से 1 935.3 ग्राम नमूने लेकर लौटा है। सीएनएसए के चंद्र अन्वेषण एवं अंतरिक्ष इंजीनियरिंग केंद्र के उप निदेशक जी पिंग ने कहा ‘‘हमने पाया है कि चांग ई-6 द्वारा लाए गए नमूने पिछले नमूनों की तुलना में अधिक चिपचिपे थे तथा उनमें गांठें भी थीं। ये अवलोकनीय विशेषताएं हैं।’’ पिंग चांग ई-6 मिशन के प्रवक्ता की जिम्मेदारी भी निभा रहे हैं। उन्होंने बताया कि इसके बाद अनुसंधानकर्ता योजना के अनुसार चंद्रमा के नमूनों का भंडारण और प्रसंस्करण करेंगे तथा वैज्ञानिक अनुसंधान कार्य आरंभ करेंगे। सीएनएसए ने बताया कि मानव इतिहास में पहली बार नमूने चंद्रमा के सुदूरवर्ती हिस्से से एकत्र किए गए हैं। यह उपलब्धि अद्वितीय वैज्ञानिक महत्व रखती हैं क्योंकि ये नमूने चंद्रमा की उत्पत्ति की समझ को और बढ़ाएंगे चंद्रमा पर उपलब्ध संसाधनों के शांतिपूर्ण अन्वेषण और उपयोग की गति को तेज करेंगे और समस्त मानवता के लिए एक महत्वपूर्ण परिसंपत्ति के रूप में काम करेंगे। उसने कहा कि वह नमूनों पर वैज्ञानिक अनुसंधान करेगा तथा चीन की चंद्रमा अन्वेषण उपलब्धियों को अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ साझा करेगा। सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ की खबर के मुताबिक पिंग ने कहा कि सीएनएसए द्वारा जारी चंद्रमा नमूना प्रबंधन नियमों और चांग ई-5 मिशन द्वारा एकत्रित चंद्रमा के नमूनों के लिए आवेदनों से निपटने के अनुभव के आधार पर चांग ई-6 नमूनों के लिए आवेदन घरेलू अनुसंधान संस्थानों और वैज्ञानिकों के लिए लगभग छह महीने में जारी करने की उम्मीद है। पिंग ने अंतरराष्ट्रीय आवेदनों के बारे में कहा कि चीन सभी देशों के वैज्ञानिकों का प्रासंगिक प्रक्रियाओं के तहत आवेदन प्रस्तुत करने का स्वागत करता है। चांग ई-6 यान को तीन मई को कक्षा में प्रक्षेपित किया गया था। चंद्रमा के नमूने लेकर इसका वापसी यान 25 जून को उत्तरी चीन के आंतरिक मंगोलिया स्वायत्त क्षेत्र के सिजिवांग बैनर में अपने निर्दिष्ट क्षेत्र में उतरा जो मिशन के सफल होने का संकेत करता है।क्रेडिट : प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडियाफोटो क्रेडिट : Wikimedia common

%d bloggers like this: