तंजानिया के राष्ट्रपति ने देश में कोविड-19 की मौजूदगी की बात आखिरकार स्वीकार की

नैरोबी (केन्या) तंजानिया के राष्ट्रपति जॉन मगुफुली ने कई महीनों तक प्रार्थना के जरिए कोविड-19 को मात देने का दावा करने के बाद आखिरकार अब देश में वायरस के मामले होने बात स्वीकार कर ली है।

मगुफुली ने रविवार को पूर्वी अफ्रीकी देश के लोगों से एहतियाती उपाय करने और मास्क पहनने का अनुरोध किया। उन्होंने महामारी के दौरान कोविड-19 टीकों सहित विदेश में निर्मित सामानों को लेकर आगाह भी किया।

राष्ट्रपति का यह बयान जांजीबार के उपराष्ट्रपति के निधन के कुछ दिन बाद आया है। उनकी पार्टी ने नेता के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि की थी। राष्ट्रपति के मुख्य सचिव का भी हाल ही में निधन हो गया था, लेकिन मौत के कारण का खुलासा नहीं किया गया है।

मुख्य सचिव के अंतिम संस्कार के मौके पर मगुफुली ने अनिर्दिष्ट “श्वसन” बीमारियों से निपटने के लिए लोगों से तीन दिन की प्रार्थना में शामिल होने का आग्रह किया।

यह बयान राष्ट्रीय प्रसारक पर शुक्रवार को प्रसारित किया गया था।

तंजानिया ने पिछले साल अप्रैल से ही देश में कोविड-19 के मामलों को लेकर कोई जानकारी नहीं दी है और राष्ट्रपति लगातार इस बात का दावा करते रहे हैं कि इसे मात दी जा चुकी है।

तंजानिया में कोविड-19 के आधिकारिक तौर पर केवल 509 मामले हैं, लेकिन स्थानीय लोगों ने बताया कि कई लोगों ने सांस लेने में तकलीफ होने की शिकायत की है और अस्पतालों में निमोनिया के मरीज भी बढ़े हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अधानोम ने शनिवार को एक बयान में कहा था कि तंजानिया का वायरस की समस्या को स्वीकार करना उसके नागरिकों, पड़ोसी देशों और विश्व के लिए काफी अच्छा होगा।

ट्रेडोस ने मगुफुली से ‘‘कड़ी कार्रवाई’’ करने का अनुरोध भी किया था।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: