दुनिया के सबसे ऊंचे रेलवे ब्रिज आर्क का कार्य भारतीय रेलवे ने पूरा कर लिया है

एक बड़ी उपलब्धि में, भारतीय रेलवे ने प्रतिष्ठित चेनाब ब्रिज के आर्क का कार्य भारतीय रेलवे ने पूरा कर लिया है। चिनाब पुल, दुनिया का सबसे ऊंचा रेलवे पुल, उधमपुर-श्रीनगर-बारामूला रेल लिंक परियोजना का हिस्सा है, जो प्रतिष्ठित चिनाब पुल के स्टील आर्क के पूरा होने के साथ आज एक महत्वपूर्ण निर्माण मील का पत्थर है। यह चिनाब पर पुल के सबसे कठिन हिस्सों में से एक था। यह उपलब्धि 111 के.एम. के पूरा होने की दिशा में एक बड़ी छलांग है। यह हाल के इतिहास में भारत में किसी भी रेलवे परियोजना के सामने आने वाली सबसे बड़ी सिविल-इंजीनियरिंग चुनौती है। धातु का 5.6-मीटर अंतिम टुकड़ा आज उच्चतम बिंदु पर फिट किया गया था और वर्तमान में नदी के दोनों किनारों से एक दूसरे की ओर खिंचाव वाले मेहराब की दो भुजाओं में शामिल हो गया। इसने आर्च का आकार पूरा कर लिया जो बाद में लगभग 359 मीटर नीचे बहते हुए चिनाब पर जाएगा। आर्च का काम पूरा होने के बाद, स्टे केबल्स को हटाने, आर्च रिब में कंक्रीट को भरना, स्टील ट्रेस्टल का इरेक्शन, वायडक्ट लॉन्च करना और ट्रैक बिछाने का काम शुरू किया जाएगा।

भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय रेलवे द्वारा जम्मू और कश्मीर में विश्व के सबसे ऊंचे रेलवे पुल चिनाब ब्रिज के आर्क क्लोजर के पूरा होने की सराहना की। एक ट्वीट में मोदी ने कहा कि देशवासियों की क्षमता और विश्वास दुनिया के सामने एक मिसाल कायम कर रहे हैं। निर्माण का यह कारनामा न केवल आधुनिक इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत की बढ़ती प्रगति को दर्शाता है, बल्कि संकल्प से सिद्धि ’के लोकाचार के रूप में चिह्नित कार्य संस्कृति का एक उदाहरण है।

फोटो क्रेडिट : Wikipedia

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: