प्रधानमंत्री जन-धन योजना (पीएमजेडीवाई) ने पूरे किए 7 साल

प्रधानमंत्री जन-धन योजना (पीएमजेडीवाई) – वित्तीय समावेशन के लिए राष्ट्रीय मिशन – ने अब कार्यान्वयन के 7 साल पूरे कर लिए हैं। पीएमजेडीवाई की घोषणा प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त 2014 को अपने स्वतंत्रता दिवस के संबोधन में की थी। 28 अगस्त को कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए, प्रधान मंत्री ने इस अवसर को एक दुष्चक्र से गरीबों की मुक्ति के उत्सव के रूप में वर्णित किया था।

(पीएमजेडीवाई)की 7वीं वर्षगांठ पर, निर्मला सीतारमण ने इस योजना के महत्व को दोहराया “7 वर्षों की छोटी अवधि में किए गए पीएमजेडीवाई के नेतृत्व वाले हस्तक्षेपों की यात्रा ने परिवर्तनकारी और साथ ही दिशात्मक परिवर्तन दोनों का उत्पादन किया है जिससे उभरते हुए एफआई पारिस्थितिकी तंत्र को अंतिम व्यक्ति को वित्तीय सेवाएं देने में सक्षम बनाया गया है। पीएमजेडीवाई के अंतर्निहित स्तंभ, अर्थात् बैंकिंग से रहित, असुरक्षित को सुरक्षित करना और गैर-वित्त पोषित लोगों को वित्त पोषण करना, गैर-सेवारत और कम सेवा वाले क्षेत्रों की सेवा के लिए प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने के साथ-साथ बहु-हितधारकों के सहयोगात्मक दृष्टिकोण को अपनाना संभव बनाता है।

पीएमजेडीवाई वित्तीय समावेशन पर एक राष्ट्रीय मिशन है जिसमें देश के सभी घरों में व्यापक वित्तीय समावेशन लाने के लिए एक एकीकृत दृष्टिकोण शामिल है। इस योजना में हर घर के लिए कम से कम एक बुनियादी बैंकिंग खाते के साथ बैंकिंग सुविधाओं तक सार्वभौमिक पहुंच, वित्तीय साक्षरता, ऋण तक पहुंच, बीमा और पेंशन सुविधा की परिकल्पना की गई है। इसके अलावा, लाभार्थियों को 1 लाख रुपये के दुर्घटना बीमा कवर के साथ रुपे डेबिट कार्ड मिलेगा। योजना में सभी सरकारी लाभों (केंद्र / राज्य / स्थानीय निकाय से) को लाभार्थी के खातों में प्रसारित करने और केंद्र सरकार की प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) योजना को आगे बढ़ाने की भी परिकल्पना की गई है।

फोटो क्रेडिट : https://twitter.com/PMJDY/photo

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: