बिहार में युवाओं को मिलेगा आधुनिक कौशल प्रशिक्षण, रोजगार के बढ़ेगे अवसर

पटना, बिहार में रोजगार सृजित करने के वास्ते युवाओं एवं युवतियों को आईटीआई एवं पालिटेक्निक के माध्यम से आधुनिक कौशल प्रशिक्षण दिया जायेगा। इससे यूवा न केवल स्वंय रोजगार प्राप्त करेंगे बल्कि स्वयं का व्यवसाय शुरू कर अन्य को रोजगार भी उपलब्ध करायेंगे। उपमुख्यमंत्री सह- वित्त मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने बुधवार को यह कहा।

बिहार विधानसभा में वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए प्रस्तावित बजट से संबंधित 2.21 लाख करोड रूपये के बिहार विनियोग (संख्या-2) विधेयक, 2021 पर चर्चा का जवाब देते हुये तारकिशार प्रसाद ने कहा कि अपना व्यवसाय प्रारंभ करने में आने वाली कठिनाईयों को सरकार समझती है इसलिए उद्यमिता विकास के लिए सरकार की तरफ से अनुदान एवं प्रोत्साहन राशि दिये जाने की योजना प्रारंभ की जा रही है। इसके बाद विधानसभा में विधेयक को ध्वनिमत से पारित कर दिया गया।

उपमुख्यमंत्री सह वित्तमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए प्रस्तावित बजट में विकसित बिहार की एक झलक दिखती है। उन्होंने कहा कि अपना व्यवसाय प्रारंभ करने में आने वाली कठिनाईयों को हमारी सरकार समझती है इसलिए उद्यमिता विकास के लिए सरकार की तरफ से अनुदान एवं प्रोत्साहन राशि दिये जाने की योजना प्रारंभ की जा रही है। इसके अंतर्गत नया उद्यम लगाने वाले युवाओं को परियोजना लागत का 50 प्रतिशत, अधिकतम 5 लाख अनुदान तथा 5 लाख रूपये मात्र एक प्रतिशत के ब्याज दर पर ऋण दिया जायेगा।

तारकिशोर ने कहा कि इसी प्रकार महिला उद्यमियों के लिए उन्हें परियोजना लागत का 50 प्रतिशत, अधिकतम 5 लाख रूपये तक का अनुदान एवं 5 लाख रूपये तक कर मुक्त ऋण दिया जायेगा। इसके लिए 400 करोड़ रूपये का बजट प्रावधान किया गया है जो अंतिम नहीं है। आवश्यकतानुसार इसे बढ़ाया भी जा सकता है।

उन्होंने कहा कि सात निश्चय-2 के अंतर्गत इंटर उत्तीर्ण अविवाहित महिलाओं को तथा स्नातक उत्तीर्ण होने पर महिलाओं को क्रमशः 25,000 एवं 50,000 रूपये आर्थिक सहायता दिये जाने की योजना है।

तारकिशोर ने कहा कि सभी गाँवों में सोलर स्ट्रीट लाईट ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन पशु एवं मत्स्य संसाधनों के विकास के लिए सात निश्चय-2 में विस्तृत कार्यक्रम प्रारंभ किये जा रहे है।

उन्होंने कहा कि स्वच्छ शहर – विकसित शहर निश्चय को प्राप्त करने हेतु शहरी गरीबों के लिए बहुमंजिला आवासन, वृद्धजनों के लिए आश्रय स्थल तथा सभी शहरों में विद्युत शवदाह गृह सहित मोक्ष धाम के निर्माण के लक्ष्य को जनप्रतिनिधियों के सहयोग के बिना हम प्राप्त नहीं कर सकते हैं।

तारकिशोर ने कहा कि कोविड-19 महामारी ने त्वरित स्वास्थ्य सुविधाओं के महत्व को प्रमाणित किया है इसलिए स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ-साथ टेलिमेडिसीन तथा विभिन्न पैथोलाॅजिकल जाँच के लिए दूर-दराज से सैम्पल एकत्रित करने का कार्य प्रारंभ किया जाना है।

उन्होंने कहा कि हृदय में छेद के साथ जन्मंे बच्चों के निःशुल्क उपचार की भी हमने व्यवस्था की है। पशुधन के स्वास्थ्य सुविधा के लिए टेलिमेडिसीन तथा डोर डेलिवरी प्रणाली की व्यवस्था की है।

उपमुख्यमंत्री के जवाब से अंसतुष्ट सभी विपक्षी सदस्य सदन से बर्हिगमन कर गए ।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : twitter

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: