ब्रिटेन में अगले सप्ताह से 50 साल से अधिक उम्र के लोगों को कोविड बूस्टर टीका दिया जाएगा

लंदन, ब्रिटेन की सरकार एक विशेषज्ञ समिति की सिफारिश को स्वीकार करेगी और पूरे इंग्लैंड में 50 साल से अधिक उम्र के लोगों को अगले सप्ताह से बूस्टर टीके की खुराक देना शुरू करेगी। ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री साजिद जाविद ने मंगलवार को संसद में यह जानकारी दी।

सर्दियों में कोविड-19 से निपटने की तैयारियों के बारे में सरकार की रणनीति का खाका प्रस्तुत करते हुए जाविद ने हाउस ऑफ कॉमन्स (निचले सदन) में बताया कि इंग्लैंड में राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) अब ज्वाइंट कमेटी ऑन वैक्सीनेशन एंड इम्युनाइजेशंस (जेसीवीआई) की सिफारिशों को जल्द से जल्द अमल में लाने की तैयारी कर रही है।

वेल्स ने भी ब्रिटेन के अन्य विकसित क्षेत्रों – स्कॉटलैंड और नॉर्दर्न आयरलैंड के साथ जेसीवीआई के सुझाव को स्वीकार किया है। जाविद ने कहा, ‘‘मैं पुष्टि कर सकता हूं कि जेसीवीआई की सलाह को मैंने स्वीकार कर लिया है और एनएचएस अगले सप्ताह से लोगों को बूस्टर खुराक देने की तैयारी कर रही है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘इस बात के प्रमाण हैं कि कोविड-19 रोधी टीकों से मिलने वाली सुरक्षा समय के साथ कम हो जाती है, विशेष रूप से बुजुर्ग अधिक जोखिम में हैं, इसलिए बूस्टर खुराक लंबे समय तक वायरस को नियंत्रण में रखने का एक महत्वपूर्ण तरीका है।’’ जाविद ने वायरस से बचाव के लिए ‘प्लान बी’ का भी जिक्र किया जिसमें घर से काम करना, मास्क लगाना शामिल है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमने देखा है कि यह वायरस कितनी तेजी से अपना स्वरूप बदल सकता है इसलिए हमें ‘प्लान बी’ के लिए भी तैयार रहना होगा जिसे हम एनएचएस पर अनावश्यक दबाव बढ़ने की स्थिति में जरूरत पड़ने पर आजमा सकते हैं।’’

इससे पहले ब्रिटेन की विशेषज्ञ सलाहकार समिति ने मंगलवार को 50 साल से अधिक उम्र के लोगों और अग्रिम मोर्चे के स्वास्थ्य कर्मियों को आगामी महीनों में घातक कोरोना वायरस से सुरक्षा के लिए कोविड-19 रोधी टीके की तीसरी बूस्टर खुराक दिए जाने की सिफारिश की है।

ज्वाइंट कमेटी ऑन वैक्सीनेशन एंड इम्युनाइजेशंस (जेसीवीआई) की सिफारिश में कहा गया है कि कोविड-19 रोधी टीके की दूसरी खुराक लेने के छह महीने बाद प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए अन्य खुराक लेने का यह बिल्कुल उपयुक्त समय है और तीसरी खुराक लेने के लिए फाइजर बायोएनटेक या मॉडर्ना टीकों का इस्तेमाल आदर्श होगा।

जेसीवीआई के अध्यक्ष प्रोफेसर वी शेन लिम ने मंगलवार को संवाददाताओं को बताया, ‘‘बहुत जल्दी खुराक लेना ठीक नहीं है, क्योंकि उनके पास अब भी उच्च स्तर की सुरक्षा है जिससे उन्हें जल्दी टीका लेना जरूरी नहीं है और जैसा कि हमने पहली और दूसरी खुराक के बीच के अंतराल के दौरान देखा है, आप इसे बहुत जल्दी नहीं लेना चाहते हैं।’’

उन्होंने यह भी संकेत दिया कि हर छह महीने पर बार-बार बूस्टर लेना जरूरी नहीं हो सकता है लेकिन इस बारे में आश्वस्त हो जाना अभी जल्दबाजी होगी। इंग्लैंड के उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रोफेसर जोनाथन वैन-टैम ने कहा कि जेसीवीआई के फैसले के बाद उन्हें उम्मीद है कि बूस्टर टीके ‘‘कुछ दिनों के भीतर’’ पेश किए जाएंगे और वे बड़े पैमाने पर टीकाकरण केंद्रों में उपलब्ध होंगे।

वैन-टैम ने टीकों के ‘‘अद्भुत रूप से सफल’’ होने के बावजूद आगामी दिनों में मुश्किलें बढ़ने की चेतावनी दी।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Getty Images

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: