भारत ने चीन सरकार से भारतीयों को चीन की यात्रा करने की अनुमति देने को कहा

नयी दिल्ली, भारत ने बृहस्पतिवार को चीन सरकार से कहा कि वह भारतीय नागरिकों, विशेष रूप से चीन में काम करने वालों या अध्ययन करने वालों को चीन की यात्रा करने की अनुमति दे। नयी दिल्ली ने कहा कि आवश्यक दो-तरफा यात्रा की सुविधा प्रदान की जानी चाहिए, विशेष रूप से इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि चीनी नागरिक भारत की यात्रा कर पा रहे हैं।

विदेश मंत्रालय ने यह भी कहा कि भारत कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के ‘फॉलो-अप’ की आवश्यकता का समर्थन करता है।

उल्लेखनीय है कि दुनिया में यह पता लगाने के लिए आवाज उठ रही है कि चीन के वुहान शहर में 2019 के अंत में कोरोना वायरस किस तरह सामने आया।

विश्व व्यापार संगठन में कोविड रोधी टीकों और संबंधित उत्पादों पर पेटेंट संबंधी छूट के भारत और दक्षिण अफ्रीका के प्रस्ताव के बारे में एक अलग सवाल के जवाब में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिदंम बागची ने कहा, ‘‘हम यह देखकर खुश हैं कि हमारी पहल को कई देशों से समर्थन मिला है।’’

चीन यात्रा के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि वह भारतीय नागरिकों के लिए चीन की यात्रा फिर से शुरू कराने के लिए चीनी पक्ष के संपर्क में है, खासकर उनके लिए जो वहां काम या पढ़ाई करते हैं।

बागची ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हम जहां सुरक्षा सुनिश्चित करने और कोविड संबंधित प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करने की आवश्यकता को स्वीकार करते हैं, वहीं आवश्यक दो-तरफ़ा यात्रा की सुविधा प्रदान की जानी चाहिए, विशेष रूप से इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि चीन के नागरिक भारत की यात्रा कर पा रहे हैं।’’

उन्होंने कहा कि चीन के नागरिक सीधे संपर्क के अभाव के बावजूद भारत की यात्रा करने में सक्षम हैं।

बागची ने कहा, ‘‘हालांकि, भारतीय नागरिकों के लिए पिछले नवंबर से चीन की यात्रा करना संभव नहीं है क्योंकि चीनी पक्ष ने मौजूदा वीजा को निलंबित कर दिया है।’’

प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हम भारतीय नागरिकों द्वारा चीन की यात्रा को जल्द से जल्द फिर से शुरू कराने के लिए चीनी पक्ष के संपर्क में हैं, खासकर उन लोगों के लिए जो वहां काम करते हैं या पढ़ते हैं।’’

बागची ने कहा कि इस साल मार्च में, चीनी दूतावास ने चीन निर्मित टीके लेने वालों के लिए वीजा की सुविधा के बारे में एक अधिसूचना जारी की थी।

बागची ने कहा, ‘‘यह समझा जाता है कि कई भारतीय नागरिकों ने इस तरह से टीका लगाने के बाद चीनी वीजा के लिए आवेदन किया है, लेकिन अभी तक उन्हें वीजा जारी नहीं किया गया है। चूंकि इन भारतीय नागरिकों ने स्पष्ट रूप से चीनी पक्ष द्वारा निर्धारित आवश्यकताओं को पूरा किया है, हम आशा करते हैं कि चीनी दूतावास उन्हें जल्द ही वीजा जारी करेगा।’’

कोरोना वायरस की उत्पत्ति से संबंधित एक सवाल के जवाब में बागची ने कहा कि मुद्दे पर और अध्ययन किए जाने का भारत समर्थन करता है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमारा रुख बहुत स्पष्ट रहा है कि हम कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के ‘फॉलो-अप’ की आवश्यकता का समर्थन करते हैं। हमने इस संबंध में समझ और सहयोग का आह्वान किया है।’’

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Wikimedia commons

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: