भारत, यूएई के बीच मुक्त व्यापार समझौते में व्यापार को बढ़ावा देने की अपार संभावनाएं: गोयल

दुबई, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को कहा कि भारत और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के बीच प्रस्तावित मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) में दोनों देशों के लिए व्यापार और निवेश को बढ़ावा देने की काफी संभावनाएं हैं।

उन्होंने साथ ही कहा कि यूएई के निवेशक भारत में कारोबार करने को लेकर काफी सकारात्मक हैं।

भारत और यूएई ने पिछले महीने औपचारिक रूप से समझौते पर बातचीत शुरू की, जिसे आधिकारिक तौर पर व्यापक आर्थिक भागीदारी समझौते (सीईपीए) का नाम दिया गया है।

वाणिज्य और उद्योग मंत्री ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं दोनों देशों के लिए इस समझौते (एफटीए) में एक बड़ी संभावना देखता हूं। यूएई पूरे अफ्रीका और दुनिया के कई अन्य हिस्सों के लिए एक प्रवेश द्वार है। यूएई में बड़ी संख्या में भारतीय प्रवासी भी है और वस्त्र, रत्न तथा आभूषण, चमड़ा, जूते और खाद्य वस्तुओं जैसे उत्पादों के लिए एक बड़ा बाजार है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि साझेदारी दोनों देशों के लिए फायदेमंद होगी।’’

दोनों पक्षों ने पारस्परिक रूप से लाभकारी आर्थिक समझौते तक पहुंचने की इच्छा व्यक्त की है और दिसंबर 2021 तक वार्ता समाप्त करने और आंतरिक कानूनी प्रक्रियाओं और सत्यापन के पूरा होने के बाद मार्च 2022 में एक औपचारिक समझौते पर हस्ताक्षर करने का लक्ष्य रखा है।

दुबई एक्सपो 2020 के बारे में बात करते हुए, गोयल ने कहा कि यह पूरी दुनिया के सामने एक नए भारत और उभरते तकनीकी रूप से संचालित आत्मनिर्भर भारत को प्रदर्शित करने का एक माध्यम है।

यह एक ऐसे भारत को भी प्रदर्शित करेगा जो पूरी दुनिया के लिए विकास का इंजन बनेगा और जो समान शर्तों पर किसी भी प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए तैयार है।

उन्होंने कहा कि एक्सपो में भारत में मौजूद विशाल अवसरों को प्रदर्शित किया जाएगा।

एक अक्टूबर से शुरू होने वाला दुबई एक्सपो 2020 अगले छह महीनों के लिए भारत के लिए अपनी जीवंत संस्कृति और विकास के अवसरों को प्रदर्शित करने का एक महत्वपूर्ण मंच होगा।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Wikimedia commons

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: