मध्य प्रदेश में शादी समारोह में 40 व्यक्ति शामिल हो सकेंगे:चौहान

भोपाल, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को कहा कि प्रदेश में अब शादी समारोह में 40 व्यक्ति सम्मिलित हो सकेंगे। साथ ही कहा कि शादी में शामिल हो रहे सभी व्यक्तियों की कोरोना जांच अनिवार्य होगी।

चौहान ने कहा कि आपदा प्रबंधन समितियों से प्राप्त सुझावों के आधार पर 15 जून तक नए दिशा-निर्देश जारी किए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने जिलों की आपदा प्रबंधन समितियों के सदस्यों को अपने निवास से ऑनलाइन संबोधित करते हुए यह बात कही।

चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण का संकट अभी गया नहीं है। तीसरी लहर की आशंका है। सावधानी और सतर्कता की आवश्यकता है। राजनैतिक, सामाजिक गतिविधियां, जुलूस-जलसे, भीड़ वाली गतिविधियां प्रतिबंधित रहेंगी। स्कूल-कॉलेज, खेलकूद, स्टेडियम में कार्यक्रम आदि पर भी प्रतिबंध रहेगा।

उन्होंने कहा, ‘ प्रदेश में जन-भागीदारी मॉडल के प्रभावी क्रियान्वयन के परिणामस्वरूप कोरोना संक्रमण नियंत्रण में है। हमें तीसरी लहर को रोकने के लिए लगातार सक्रियता बनाए रखनी होगी। अमेरिका, इंग्लैंड और सिंगापुर के अनुभव यही बताते हैं कि जहां कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन गंभीरता से हुआ, वहां संक्रमण पुन: नहीं फैला। लेकिन जहां लापरवाही बढ़ी, वहां संक्रमण पुन: फैलना आरंभ हो गया है।’ चौहान ने समिति सदस्यों से कोरोना संक्रमण नियंत्रण, बाजार और व्यापारिक गतिविधियों को खोलने और टीकाकरण के संबंध में सुझाव भी मांगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में संक्रमण नियंत्रण में है। ग्राम, वार्ड, नगर और जिला स्तर पर आपदा प्रबंधन समितियों द्वारा संभाले गए दायित्व, परिश्रम और सहयोग के कारण ही कोरोना पर नियंत्रण पाया जा सका है। रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण के केवल 274 नये मामले आए हैं जबकि 18 जिलों में एक भी मामला सामने नहीं आया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि तीसरी लहर की चेतावनी सामने है और ब्लैक फंगस की चुनौती बनी हुई है। अभी आपदा प्रबंधन समितियों का काम समाप्त नहीं हुआ है। इन समितियों ने ग्राम, वार्ड, जिला और नगर स्तर पर बेहतर टीम के रूप में कार्य किया है। अभी आगे भी इन्हें जिम्मेदारी संभालनी है।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Wikimedia commons

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: