ममता ने किया ‘सेल्फ गोल’, मुसलमान भी हुए दूर: मोदी

कूचबिहार/हावड़ा, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर करारा हमला बोला और दावा किया कि वोटों का बिखराव ना हो इसके लिए मुसलमानों से एकजुट हो जाने की उनकी अपील स्पष्ट करती है कि तृणमूल कांग्रेस विधानसभा चुनाव की जंग हार गई है।

प्रधानमंत्री ने राज्य में दो चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए दावा किया यदि उन्होंने इसी प्रकार सभी हिन्दुओं को एकजुट हो जाने और भाजपा को मत देने की अपील की होती तो उन्हें निर्वाचन आयोग के आठ-दस नोटिस मिल गये होते और देश भर के अखबारों में उनके खिलाफ संपादकीय छप जाते।

ममता बनर्जी पर तुष्टीकरण की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए मोदी ने कहा कि उन्हें लोगों के तिलक लगाने और भगवा वस्त्र पहनने पर भी अब एतराज होने लगा है।

प्रधानमंत्री ने दावा किया कि राज्य में भाजपा के पक्ष लहर है और पार्टी बंगाल में अगली सरकार बनाएगी।

पश्चिम बंगाल में अपनी हर चुनावी रैली में ममता बनर्जी को ‘‘दीदी ओ दीदी’’ कहकर संबोधित करने वाले मोदी ने यहां रणनीति बदलते हुए अपने संबोधन में उन्हें ‘‘आदरणीय दीदी, ओ दीदी’’ कहकर संबोधित किया। ज्ञात हो कि तृणमूल कांग्रेस ने प्रधानमंत्री द्वारा ‘‘दीदी ओ दीदी’’ कहने के अंदाज पर आपत्ति जताई थी और इसे महिलाओं का अपमान करार दिया था।

उन्होंने कहा, ‘‘आदरणीय दीदी, अभी हाल में आपने कहा कि सभी मुसलमान एक हो जाओ, वोट बंटने मत दो। आप ये कह रही हैं इसका मतलब है कि आपको यकीन हो गया है कि जिस मुस्लिम वोटबैंक को आप अपनी सबसे बड़ी ताकत मानती थी, वह भी आपके हाथ से निकल गया है। मुस्लिम भी आपसे दूर हो गए हैं। आपको सार्वजनिक तौर पर ऐसा कहना पड़ रहा है, इसी से पता चलता है कि आप यह जंग हार गई हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन अगर हमने ये कहा होता कि सारे हिंदू एकजुट हो जाओ, भाजपा को वोट दो तो हमें निर्वाचन आयोग के 8-10 नोटिस मिल गए होते। सारे देश के संपादकीय हमारे खिलाफ होते।’’

प्रधानमंत्री ने कहा कि फुटबॉल के खेल में एक ‘‘सेल्फ गोल’’ (अपने खिलाफ किया गया गोल) होता है।

उन्होंने कहा, ‘‘आप चुनाव के मैदान में सेल्फ गोल कर चुकी हैं। आपने खुद ही अपनी सच्चाई स्वीकार कर ली है।’’

मुस्लिम मतदाताओं से एकजुट होकर मतदान करने की ममता बनर्जी की कथित अपील के खिलाफ भाजपा ने सोमवार को चुनाव आयोग का भी दरवाजा खटखटाया था और उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी।

प्रधानमंत्री ने ममता बनर्जी के उस बयान पर भी तंज कसा जिसमें उन्होंने कहा था कि क्या भाजपा कोई भगवान है, जो कह रही है राज्य में उसकी सरकार बनेगी।

मोदी ने कहा, ‘‘चुनाव में कौन हार रहा है और कौन जीत रहा है, यह पता करने के लिए भगवान को कष्ट देने की जरूरत नहीं है। यह तो जनता जनार्दन, जो भगवान का रूप होती है, का चेहरा देखकर पता चलता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘आपका गुस्सा, आपकी नाराजगी, आपके व्यवहार को देखकर एक बच्चा भी बता सकता है कि दीदी, टीएमसी (तृणमूल कांग्रेस) गई। आप चुनाव हार चुकी हैं। जिस दिन नंदीग्राम में मतदान चल रहा था, वहां के मतदान केंद्र में जो खेला किया आपने, उसी दिन पूरे देश ने मान लिया था कि आप हार गई हैं इसके लिए भगवान को पूछने की जरूरत नहीं है।’’

प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में उस ऑडियो टेप का जिक्र किया जिसे लेकर भाजपा के नेता ममता बनर्जी सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘अभी हाल में जो टेप आया है, उसमें हुई बातचीत दीदी के 10 साल का पूरा रिपोर्ट कार्ड दे रही है। दीदी, आपने बंगाल में एक नया टैक्स शुरू कर दिया ‘भाइपो सर्विस टैक्स’। गरीब मां-बहन ने, मेहनत का एक-एक टका जोड़ा, वो भाइपो सर्विस टैक्स में चला गया।’’

भाजपा पर पैसे देकर भीड़ जुटाने के तृणमूल कांग्रेस के आरोपों का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि भाजपा की रैलियों में भारी संख्या में लोग आ रहे हैं और मुख्यमंत्री कहती हैं कि वे पैसे लेकर यहां आते हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘बंगाल की ईमानदार जनता पर दीदी का ये संगीन आरोप दिखाता है कि वो चुनाव हार चुकी हैं।’’

उन्होंने जनता से अपील की कि वे इस अपमान का बदला जरूर लें।

उन्होंने कहा, ‘‘शिक्षकों की भर्ती हो या फिर लोगों के काम, आपने सिर्फ तुष्टिकरण किया। बंगाल के सामान्य लोगों, नौजवानों और यहां के किसानों को आपने अपने हाल पर छोड़ दिया। 10 साल तक आपके तोलाबाज बंगाल लूटते रहे, आदरणीय दीदी आप देखती रहीं।’’

प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल में 10 साल तक दलितों, वंचितों, पिछड़ों, आदिवासियों, चाय बागान के मजदूरों के साथ अन्याय होता रहा लेकिन मुख्यमंत्री उन्हें नजरअंदाज करती रहीं।

प्रधानमंत्री ने दावा किया की कि सरकार बनते ही कैबिनेट की पहली बैठक में किसान सम्मान निधि लागू की जाएगी और किसानों के खाते में सीधे पैसे हस्तांतरित किए जाएंगे।

हावड़ा के डुमुरजाला में दिन की दूसरी रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस प्रमुख विधानसभा चुनाव में अपनी संभावित हार को देखते हुए ‘‘हताश’’ हो गईं और उन पर ‘‘गालियों की बौछार’’ कर रही हैं।

उन्होंने यह दावा भी किया कि बंगाल के लोग अनुमान लगा रहे है कि दो मई को चुनाव के नतीजे आने के बाद तृणमूल कांग्रेस बिखर जाएगी।

उन्होंने कहा, ‘‘हार की हताशा में दीदी आज कल मुझ पर गालियों की बौछार कर रही हैं। बंगाल के लोग दीदी का ये आचरण देखकर बहुत दुखी हैं। देश-दुनिया में इसकी चर्चा हो रही है कि बंगाल की ये कौन सी छवि वह प्रस्तुत कर रही हैं।’’

प्रधानमंत्री ने कहा कि ममता बनर्जी को आजकल उनके बांग्ला शब्दों के उच्चारण पर भी बहुत ऐतराज हो रहा है जबकि एक मुख्यमंत्री होने के नाते उन्हें (ममता को) उनकी तारीफ करनी चाहिए थी।

मोदी ने कहा कि वह जहां भी जाते हैं, उनकी कोशिश वहां की स्थानीय भाषा में कुछ शब्द बोलने की होती है।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं तमिलनाडु जाता हूं तो वहां भी तमिल भाषा के कुछ शब्द बोलने की कोशिश करता हूं। केरल जाता हूं तो वहां मलयालम में कुछ बोलने की इच्छा होती है। भाषा के प्रति श्रद्धा का मेरा एक तरीका है। उच्चारण की गलतियां होती हैं लेकिन मैं पूरी ईमानदारी से प्रयास तो करता हूं।’’

प्रधानमंत्री ने कहा कि वह बंगाल आने पर बांग्ला में कुछ शब्द बोलने की कोशिश करते हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पता है कि मेरे बांग्ला उच्चारण में भी बहुत सारे दोष होते हैं बावजूद इसके मैं बांग्ला के शब्द बोलता हूं क्योंकि मैं बांग्ला भाषा का बहुत सम्मान करता हूं। इसे तो प्रोत्साहित करना चाहिए लेकिन वह (ममता) मेरे इस प्रयास पर भी भड़की हुई हैं।’’

प्रधानमंत्री ने कहा कि 10 साल तक ममता बनर्जी ने बंगाल के लोगों के साथ जिस तरह विश्वासघात किया है, उसका जवाब इस बार लोग चुनावों में दे रहे हैं।

उन्होंने दावा किया कि ममता बनर्जी के शासन में ‘‘उनकी टोलाबाज, सिंडिकेट, अन्यायी, अत्याचारी और हत्यारी सरकार’’ से हर कोई परेशान है।

उन्होंने कहा, ‘‘पश्चिम बंगाल को दीदी की सरकार की दुर्नीति ने अपराध की सुगमता और लूट की सुगमता दी लेकिन दो मई के बाद बनने वाली भाजपा की सरकार जीवन की सुगमता और व्यवसाय की सुगमता का असली परिवर्तन देगी।’’

प्रधानमंत्री के ‘भाईपो सर्विस टैक्स’ वाले बयान पर तृणमूल कांग्रेस के नेता एवं राज्य में मंत्री फिरहाद हाकिम ने कहा कि इस प्रकार के बयान से यह पता चलता है कि मोदी चुनाव हार रहे हैं और इसलिए वह परेशान हैं।

हाकिम ने किसी का नाम लिए बिना कहा, “भाजपा ने व्यक्तिगत हमले करने और राजनीतिक विमर्श को नीचे गिराने की आदत बना ली है। हमारे युवा नेता पर बार-बार हमले करना उनकी परेशानी को दिखाता है। ऐसा कोई टैक्स बंगाल में नहीं लगता।”

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Wikimedia commons

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: