मोटेरा की नयी पिच पर गुलाबी गेंद से दबदबा बनाने की कोशिश करेंगे भारत और इंग्लैंड

अहमदाबाद, पिछले मैच में बड़ी जीत के बावजूद भारत को मोटेरा की नयी नवेली पिच पर बुधवार से शुरू होने वाले तीसरे दिन रात्रि टेस्ट क्रिकेट मैच में इंग्लैंड को संकट में डालने के लिये गुलाबी गेंद से जुड़े सवालों का उचित समाधान निकालना होगा।

अहमदाबाद वह क्रिकेटिया स्थल है जो भारतीय क्रिकेट से जुड़ी कई उपलब्धियों का गवाह रहा है। सुनील गावस्कर ने यहीं पर 10,000 टेस्ट रन पूरे किये तो कपिल देव ने यहीं पर 83 रन देकर नौ विकेट लेकर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और बाद में रिचर्ड हैडली का सर्वाधिक टेस्ट विकेट का तत्कालीन रिकार्ड भी इसी मैदान पर तोड़ा।

बुधवार को इशांत शर्मा इसी मैदान पर अपना 100वां टेस्ट मैच खेलने के लिये उतरेंगे और कपिल के बाद यह उपलब्धि हासिल करने वाले दूसरे भारतीय तेज गेंदबाज बनेंगे। सचिन तेंदुलकर ने जहां टेस्ट मैचों में अपना पहला दोहरा शतक पूरा किया था वहां पर रविचंद्रन अश्विन 400 टेस्ट विकेट लेने के क्लब में शामिल होने की कोशिश करेंगे जिसके लिये उन्हें छह विकेट की जरूरत है।

सरदार पटेल स्टेडियम का नवीनीकरण किया गया और अब यह विशाल नजर आता है लेकिन यहां काफी समय बाद टेस्ट मैच हो रहा है और इसलिए विराट कोहली की टीम भी बहुत अधिक फायदे की उम्मीद नहीं करेगी। भारत चाहेगा कि पिच से स्पिनरों को मदद मिले ताकि वह 2-1 की बढ़त बना सके लेकिन पिच का व्यवहार कैसा होगा यह अभी देखना बाकी है।

सीनियर बल्लेबाज रोहित शर्मा ने पिच को लेकर टीम की राय स्पष्ट कर दी थी। वह ऐसी पिच चाहते हैं जिसे अश्विन और अक्षर पटेल जैसे स्पिनरों को मदद मिले। ठीक उसी तरह से जैसे जो रूट हैंडिग्ले या ओल्ड ट्रैफर्ड में घसियाली पिच को प्राथमिकता देते हैं।

लेकिन कुछ ऐसे सवाल हैं जिनका जवाब दोनों टीमें ढूंढने की कोशिश करेंगी।

बल्लेबाजों के लिये सांध्य बेला का सत्र कैसे होगा क्योंकि जेम्स एंडरसन का मानना है कि इस दौरान गेंद अधिक स्विंग करेगी। क्या एसजी टेस्ट गुलाबी गेंद पर अतिरिक्त चिकनाई अश्विन और अक्षर की जोड़ी के लिये मुश्किल पैदा करेगी जिन्होंने चेपॉक में दूसरे टेस्ट मैच में इंग्लैंड के बल्लेबाजों को दिन में तारे दिखा दिये थे।

यही नहीं मैच दोपहर बाद दो बजकर 30 मिनट पर शुरू होगा और ऐसे में क्या अंतिम सत्र में ओस अपनी भूमिका निभाएगी? उस समय धीमी गति के गेंदबाजों के लिये गेंद पर ग्रिप बनाना आसान नहीं होगा।

जब इतनी चीजों के बारे में पता न हो तो कोई भी कप्तान परिस्थितियों का आकलन करना उचित समझेगा जैसा कि इशांत ने सोमवार को कहा था।

इशांत ने कहा, ‘‘गुलाबी गेंद से यह टेस्ट हम नये मैदान पर खेल रहे हैं इसलिए हम भी कुछ नहीं जानते कि उनसे कैसे पार पाना है।’’

उनके प्रतिद्वंद्वी गेंदबाज एंडरसन का हालांकि मानना है कि मैच शुरू होने के समय उनके सामने वैसा ही विकेट होगा जैसा कि चेपॉक में था।

उमेश यादव फिटनेस परीक्षण में सफल रहे हैं और यह भारत के लिये अच्छी खबर है। ऐसे में कुलदीप यादव को अंतिम एकादश से बाहर किया जा सकता है। उमेश और इशांत ने कोलकाता में खेले गये पहले दिन रात्रि टेस्ट मैच में बांग्लादेश को छह सत्र के अंदर दो बार आउट कर दिया था।

लेकिन इंग्लैंड के पास जो रूट, बेन स्टोक्स, जॉनी बेयरस्टॉ जैसे खिलाड़ी हैं जो कड़ी चुनौती पेश करेंगे।

हार्दिक पंड्या को गेंदबाजों का कार्यभार कम करने के लिये टेस्ट टीम में शामिल किया गया है लेकिन यह सुनिश्चित नहीं है कि टीम उन्हें टेस्ट मैच के लिये तैयार मान रही है या नहीं।

इंग्लैंड की रोटेशन नीति के कारण मोईन अली विदेश लौट गये हैं और ऐसे में डोम बेस को जैक लीच के साथ स्पिन विभाग में शामिल किया जा सकता है। लेकिन यह सुनिश्चित नहीं है कि एंडरसन और जोफ्रा आर्चर के साथ स्टुअर्ट ब्रॉड या मार्क वुड को अंतिम एकादश में जगह मिलेगी या नहीं।

इसके अलावा प्रतिभाशाली बल्लेबाज जॉक क्रॉउली को रोरी बर्न्स की जगह अंतिम एकादश में रखा जा सकता है जबकि नंबर तीन पर डैन लॉरेन्स की जगह जॉनी बेयरस्टॉ की वापसी होगी।

टीमें इस प्रकार हैं :

भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, मयंक अग्रवाल, शुभमन गिल, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे (उपकप्तान), केएल राहुल, हार्दिक पंड्या, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), ऋद्धिमान साहा (विकेट कीपर), आर अश्विन, कुलदीप यादव, अक्षर पटेल, वाशिंगटन सुंदर, इशांत शर्मा, जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद सिराज, उमेश यादव में से।

इंग्लैंड: जो रूट (कप्तान), जेम्स एंडरसन, जोफ्रा आर्चर, जॉनी बेयरस्टॉ, डोमिनिक बेस, स्टुअर्ट ब्रॉड, रोरी बर्न्स, जैक क्रॉउली, बेन फॉक्स, डैन लॉरेंस, जैक लीच, ओली पोप, डॉम सिबली, बेन स्टोक्स, ओली स्टोन, क्रिस वोक्स, मार्क वुड में से।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: