शिक्षा विनियामकों का इस साल विलय होगा : एआईसीटीई अध्यक्ष सहस्रबुद्धे

चेन्नई, अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद् (एआईसीटीई) के अध्यक्ष अनिल सहस्रबुद्धे ने बृहस्पतिवार को कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में अहम सुधार खासकर विभिन्न विनियामकों को मिलाकर भारतीय उच्च शिक्षा आयोग (एचईसीआई) का गठन इस साल हो जाएगा। राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 के तहत एचईसीआई उच्च शिक्षा के लिए एक बहुत बड़ा संगठन होगा।

सहस्रबुद्धे ने यहां कहा, ‘‘अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) और राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद् (एनसीटीई) का विलय करके एचईसीआई का गठन किया जाएगा। यह इस साल प्रभाव में आ जाएगा। ’’ ‘‘तकनीकी शिक्षा का फिर से रूप तय करने और एनईपी के क्रियान्वयन की अनुमोदन प्रक्रिया की अहम बातें’’ विषय पर एक दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में उन्होंने कहा कि एनईपी में विद्यार्थियों, शिक्षकों एवं संस्थानों के फायदे की कई बातें हैं।

उन्होंने मीडिया के एक वर्ग पर इस बात को लेकर ‘भ्रम’ फैलाने का आरोप लगाया कि अभियांत्रिकी या प्रोद्यौगिकी में स्नातक करने के लिए गणित, भौतिकी एवं रसायनशास्त्र अनिवार्य नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘ये बिल्कुल मूलाधार हैं।’’ उन्होंने कहा कि इनके बिना कोई भी अभियांत्रिकी की शिक्षा पूरी कर ही नहीं सकता।

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया
फोटो क्रेडिट : Wikipedia

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: