संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुख ने किसान आंदोलन के उचित समाधान की उम्मीद जतायी

जिनेवा, संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार प्रमुख मिशेल बाचेलेट ने शुक्रवार को उम्मीद जताई कि भारत सरकार और नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के बीच चल रहे संवाद के प्रयासों से इस “संकट” का एक उचित समाधान निकलेगा, जिसमें सभी के अधिकारों का सम्मान किया जाएगा।

चीन, पाकिस्तान और रूस सहित 50 से अधिक देशों में हाल के मानवाधिकार मुद्दों पर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद को अद्यतन करते हुए, बाचेलेट ने किसानों के विरोध प्रदर्शन को कवर करने वाले पत्रकारों और कार्यकर्ताओं के खिलाफ की गई कार्रवाई और सोशल मीडिया पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर अंकुश लगाने के प्रयासों की भी आलोचना की।

बाचेलेट के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए, भारत के स्थायी प्रतिनिधि राजदूत इंद्र मणि पांडेय ने कहा कि भारत सरकार ने 2024 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है।

उन्होंने कहा, ‘तीन कृषि कानूनों को लागू करने का उद्देश्य किसानों को उनकी उपज के लिए बेहतर कीमत प्रदान करना और उनकी आय में वृद्धि करना है। यह विशेष रूप से छोटे किसानों को लाभान्वित करेगा और किसानों को अधिक विकल्प प्रदान करेगा।’

पांडेय ने अपने राष्ट्रीय वक्तव्य में कहा, ‘सरकार ने किसानों के विरोध प्रदर्शन के प्रति अत्यधिक सम्मान दिखाया है और उनकी चिंताओं को दूर करने के लिए बातचीत में लगी हुई है।’ बाचेलेट ने अपने बयान में कहा, ‘मुझे विश्वास है कि दोनों पक्षों के बीच चल रहे संवाद प्रयासों से इस संकट का एक उचित समाधान निकलेगा जो सभी के अधिकारों का सम्मान करता हो।’

क्रेडिट : पेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: